Posts

Showing posts from December, 2013

मैं बोका निकला इस बार भी

उठते देखा
ढलते देखा
अपना रुख बदलते देखा
लड़ते देखा
फिर मैदान से भागते देखा
तुम्हें योद्धा कहूँ
या रणछोड़ ..

चलो ....कुछ नही कहना
यहाँ मौजूद हैं
वीरों के वीर
जिनके पास हैं
नैतिकता , ईमानदारी , सत्य के प्रवचन
सिर्फ औरों के लिए
गिरगिट ने पहचान लिया था इन्हें
मुझसे पहले

अच्छा ....अब ठीक है

पतझड़ में

आदमी कब मरता है किसी मुल्क में 
वहाँ एक नागरिक मरता है हर बार

मृत्यु के साथ चरित्र नही मरा करता केवल मिटता है एक देह हर बार

पतझड़ में पेड़ कहाँ सूखते हैं बस झड़ जाते है पत्ते हर बार