Posts

Showing posts from January, 2016

मौसम ऐसे ही बदलता है

सुखद यह है
कि कल-आज
कमी दर्ज किया है
मैंने, मेरे लिए
तुम्हारी बेचैनी में
मैं मान ले रहा हूँ
कि तुम्हें भी अब अहसास होने लगा है
अपनी नादानियों का |
....
मौसम ऐसे ही बदलता है .... तुम्हारा कवि ......

लोकतंत्र बीमार है

मिमिक्री मत करना कभी अब
जेलों में अब भी जगह बहुत है
पुलिस दुरुस्त हैं
बस, बीमार है
लोकतंत्र ! पुस्तक मेले में आके देखो
बाबाओं के स्टाल पर
दस रुपये की मोटी किताब है
सेवक-सेविकाएँ
एकदम चुस्त हैं बाउंसर सजग है
बस लोकतंत्र बीमार है पता नहीं क्या बकता है
ये साला गायेन पागल है ! - तुम्हारा कवि
क्या लिखता है
मत पढ़ो,
सब कचरा है |
उनका पढ़ो
सब मौलिक, महान हैं |

मेरे दर्द को तुमने कविता बना दिया

दरअसल मैंने
दर्द लिखा हर बार
जिसे तुमने मान लिया
कविता |
मेरे दर्द को 
तुमने कविता बना दिया ! -तुम्हारा कवि

टार चिरैया - घुंघरू परमार की एक कविता

Image
ओ, टार चिरैया
कहाँ से सीखा, टाट पर यूँ
गणितीय ग्राफ में बैठना..
आसमां में गोल-गोल उड़ते हुए
'पाई चार्ट' बनाना
शाम को घर लौटते हुए
'ट्रेंगल' भी बनाना। टार चिरैया ने कहा- गुनगुन
सदियों से हम उपेक्षित,असभ्य, कुरुप, गंवार हैं
ना मिला कभी 'प्रवासी पक्षी' बनने का सौभाग्य।
लोग भी उन्हें खरीद ले जाते अपने घरों में,
जो चिरैया रंगीं हो लाल, पीले,नीले रंगों में। हम तो साक्षी हैं
इस टाट पर बैठकर
अगिणत किसानों के आत्महत्या के...
काम-देवता के भयानक कुकृत्यों के...
प्रेमियों के प्रेम के...
खाप-सज़ा भुगतने वाले जोड़ियों के...
उस मचान पर बैठकर बतियाती उन छोरियों के,
जो वर्षों बाद मायके लौटी हैं,घरेलू-हिंसा से थककर। हम साक्षी हैं
फसल पकने से कटने तक के,
सुबह के, शाम के,
सूरज और चाँद के। हम ऐसे गवाह हैं,
जो सैकड़ों कांड के साक्षी हैं।
यदि हो कोई ऐसी अदालत
तो ले चलो वहां...
हम नहीं बदलेंगें
अपना बयान। मेरा गणित फिर से कमजोर कर दिया,
'टार चिरैया' ने।