हाथी का चित्र


पिछले शनिवार
दो बच्चे आये  मेरे कमरे पर
उन्होंने बनाये चित्र
तीन हाथियों का
माँ हाथी और उसके दो बच्चे .
मैंने पूछ लिया
हाथी ही क्यों  ?

मेरे बच्चों के लिए
जवाब  आया..


जब मेरे बच्चे होंगे
तब हाथी नहीं  होंगे शायद
  तब जंगल नहीं बचेगा 
सिर्फ आदमी ही आदमी होंगे


फिर बनाया 
  हरी- हरी घास 
जिस पर हाथी  चल रहे थे .

वाह-रे नन्हे  चित्रकार
तुम्हारी सोच  को नमन .

Comments

Post a Comment

Popular posts from this blog

तालाब में चुनाव (लघुकथा)

टार चिरैया - घुंघरू परमार की एक कविता

दिन की मर्यादा रात ही तो है