हमारे प्रेम ने एक कर दिया धर्म पर लड़ने वालों को

क्रूरता अपने चरम पर है
और सत्ता शामिल है क्रूरता के इस चक्रव्यू में
ऐसे हम दोनों मग्न हैं प्रेम में
जल्द ही ज़ारी किये जाएँगे फ़तवे हमारे खिलाफ़
खाप इंतज़ार में था हमारे प्रेम के लिए
बहुत दिनों से खाली पड़ी थी उनकी बैठक
और हम गर्व महसूस कर रहे हैं अपने प्रेम पर
देखो, बर्दस्त नहीं उन्हें हमारी ख़ुशी
पंडित और मौलाना हाथ मिला रहे हैं
हमारी मौत की साजिस में
उनकी साज़िस में शामिल हैं हमारे अपने भी
हमारा प्रेम ही उनकी एकता है
और इसलिए मैं खुश हूँ
कि हमारे प्रेम ने एक कर दिया धर्म पर लड़ने वालों को
और इसलिए अब मुझे भय नहीं लगता प्रेम में
मरने से ......
यूँ ही ...तुम्हें सोचते हुए

Comments

Popular posts from this blog

तालाब में चुनाव (लघुकथा)

टार चिरैया - घुंघरू परमार की एक कविता

दिन की मर्यादा रात ही तो है