তুমি আসবে তো ..?

আবার আঁকবো 
একটি সুন্দর ছবি 
থাকবে মুখে 
মোনালিসা হাসি 
প্রভাতের সূর্যের কিরণের মত 


তুমি আসবে তো 
আমার সেই ছবি হতে ?

--------------------------

चित्र -गूगल से साभार 

Comments

  1. mera arz fir vahi................padhna chahti hun magar anpadh siddh ho rahi hun! will u plz translate it?????????????

    ReplyDelete
    Replies
    1. बनाऊंगा फिर एक
      सुंदर तस्वीर
      चेहरे पर होगी
      मोनालिसा मुस्कान
      प्रभात सूर्य किरण की तरह

      तुम आओगी न
      मेरी वो तस्वीर बनने ...?
      --------

      लीजिए मैंने कोशिश की है , दरअसल जो भाव मैं बांग्ला में एकबार डे देता हूँ ..उसे किसी और भाषा में अनुवाद करना मुश्किल हो जाता है , मेरी हिंदी कविताओं को भी मैं बांग्ला में अनुवाद करने से डरता हूँ . :) खैर, उम्मीद है आप भाव को समझ पाएंगी .
      सादर

      Delete
    2. mai samajh sakti hun, anuvaad karte samay bhaav aur arth mahatvpurn ho jata hai, jisse kavita ka apna roop badal jata hai aur vo kuchh feekee lagti hai, lekin aapki ye chhoti si kavita hindi me bhi kam khoobsurat nahi lag rahi hai.................yahi hai ek achchhe kavi ki khasiyat!!

      Delete

Post a Comment

Popular posts from this blog

तालाब में चुनाव (लघुकथा)

टार चिरैया - घुंघरू परमार की एक कविता

दिन की मर्यादा रात ही तो है