भाग्य की रेखाएं

मेहनती हाथों में नही दिखतीं
भाग्य की रेखाएं
इनमें बचपन से ही पड़ जाती हैं
दरारें
ये दरारें खुद ही लिखतीं हैं
कहानी अपनी किस्मत की
अक्सर ऐसे हाथ वालें लोगों की पीठ पर
बरसती हैं लोकतांत्रिक देश की
पुलिस की लाठियां
छाती से टकरातीं हैं गोलियाँ |
फिर भी कभी कम नही होती  
इन हाथों की संख्या
दो गिरते हैं
तो खड़े हो जाते हैं दस –दस हाथ

मुल्क भी जानता है इस सत्य को
कि टिका हुआ है उसका भाग्य और भविष्य
इन्ही भाग्य –रेखा विहीन हाथों की मेहनत में
उर्वर है उसकी जमीन
इनके पसीने की धार से .....

Comments

  1. आपको यह बताते हुए हर्ष हो रहा है की आपकी यह रचना आज सोमवारीय चर्चा(http://hindibloggerscaupala.blogspot.in/) में शामिल की गयी है, आभार।

    ReplyDelete
  2. इनमें बचपन से ही पड़ जाती हैं
    दरारें
    ये दरारें खुद ही लिखतीं हैं
    कहानी अपनी किस्मत की..वाह वाह

    ReplyDelete
  3. मुल्क भी जानता है इस सत्य को
    कि टिका हुआ है उसका भाग्य और भविष्य
    इन्ही भाग्य –रेखा विहीन हाथों की मेहनत में
    उर्वर है उसकी जमीन
    इनके पसीने की धार से .....

    कविता तरह तरह से इस सत्य को उजागर करती है

    ReplyDelete
  4. क्या बात है .......

    ReplyDelete

Post a Comment

Popular posts from this blog

तालाब में चुनाव (लघुकथा)

टार चिरैया - घुंघरू परमार की एक कविता

दिन की मर्यादा रात ही तो है