गुलामी का असर अभी बाकि है

आपने कहीं इतिहास में ऐसा पढा या सुना है क्या कि किसी देश में कोई बड़ी दुर्घटना घटे ओर उसमें  एक ही साथ हजारों लोग मारें जायें और उस घटना के लिए जिम्मेदार व्यक्ति उस देश को छोड़ कर सही सलामत  निकल कर अपने देश अमेरिका पहुँच जाये किन्तु जिस देश में यह घटना घटी उस देश के प्रधानमंत्री को इस बारे में कुछ भी पता न हो ऐसा हो सकता है क्या ?  यदि आप भी मेरी तरह यह मानते हैं कि यह कतई संभव नही तो यह किस तरह से संभव हो सकता है कांग्रेस पार्टी के प्रवक्ता और  वकील माननीय श्री अभिषेक मनु सिंग्वी जी आपको समझा सकते हैं कि यह कैसे संभव हो सकता है . अभिषेक जी वकील भी हैं और मनोवैज्ञानिक भी उनसे बढ़िया जवाब और कहाँ मिलेगा ?
नेहरु जी के महान भारत में उनके पार्टी के आज के नेताओं के लिए सबकुछ संभव है , कुछ भी असंभव नही .
भारत के प्रथम युवा प्रधानमंत्री स्वर्गीय श्री राजीव गाँधी जी उस समय भारत के प्रधान मंत्री थे और अर्जुन सिंह मध्य प्रदेश के  मुख्यमंत्री  जब भोपाल गैस कांड हुआ था . इउनिओन कार्बाइड के मालिक और हजारों मासूमों के कातिल आन्देर्सन  भारत से कैसे सही सलामत भाग गया ? वह इसीलिए भाग पाया किउंकि उस गैस कांड में किसी भी राजनेता का कोई नुकसान नही हुआ था .
अंग्रेजों की गुलामी का असर अभी बाकि है कहीं न कहीं हमारे भीतर आज भी  ऐसा मुझे लगता है . नेताओं के कारनामे देख कर ऐसा नही लगता कि वे इस देश से प्रेम करतें है , वे सिर्फ सत्ता से और धन से प्रेम करते हैं .

Comments

  1. jis desh ka netratva sab kuchh dekhte hue bhi aankh band kar baitthha rahe, wahan sab kuchh sambhav hai...

    ReplyDelete

Post a Comment

Popular posts from this blog

तालाब में चुनाव (लघुकथा)

टार चिरैया - घुंघरू परमार की एक कविता

दिन की मर्यादा रात ही तो है