आज़ाद भारत की आधुनिक तस्वीर

किसान तुम फसल उगाओ

हम उसे बेचेंगे

मुनाफा कमाएंगे

हवाई यात्रा करेंगे

बच्चों को घुमायेंगे

चिंता मत करो

तुम्हे -

कर्जा हम दिलवायेंगे

तुम सिर्फ व्याज भरते रहना

जीवनभर यूँ ही मरते रहना

अपना काम करते रहना

हमारा क्रिकेट देखते रहना

किन्तु एक काम करना

हमसे कभी

रोटी  मत मांगना

--तुम्हारा कृषि मंत्री

Comments

Popular posts from this blog

तालाब में चुनाव (लघुकथा)

टार चिरैया - घुंघरू परमार की एक कविता

दिन की मर्यादा रात ही तो है