समन्दर की किस्म्मत अच्छी है

समन्दर की किस्म्मत अच्छी है
कि उसके दामन में सिर्फ पानी नही
नमक भी है
यदि -
समंदर में सिर्फ पानी होता
... सुमंदर कबका सुख चुका होता
नेता -दलाल मिलकर उसका
वस्त्र हरण कब का कर चुके होते
विशाल समन्दर का पानी
किसी छोटे से बोतल में कैद
आज बाज़ार में होता.

Comments

  1. बहुत ही खूबसूरत !!!!

    ReplyDelete

Post a Comment

Popular posts from this blog

तालाब में चुनाव (लघुकथा)

टार चिरैया - घुंघरू परमार की एक कविता

दिन की मर्यादा रात ही तो है