समन्दर की किस्म्मत अच्छी है

समन्दर की किस्म्मत अच्छी है
कि उसके दामन में सिर्फ पानी नही
नमक भी है
यदि -
समंदर में सिर्फ पानी होता
... सुमंदर कबका सुख चुका होता
नेता -दलाल मिलकर उसका
वस्त्र हरण कब का कर चुके होते
विशाल समन्दर का पानी
किसी छोटे से बोतल में कैद
आज बाज़ार में होता.

Comments

Post a Comment

Popular posts from this blog

टार चिरैया - घुंघरू परमार की एक कविता

दिन की मर्यादा रात ही तो है

मुर्दों को इंसाफ़ कहाँ मिलता है