कई बार झुलसा है

खामोश है शहर मेरा 
सहमे हुए बच्चे की तरह 
कई बार झुलसा है 
दंगों की आग में 
आजकल 
जी रहा है 
एक अपाहिज की तरह

Comments

Post a Comment

Popular posts from this blog

तालाब में चुनाव (लघुकथा)

टार चिरैया - घुंघरू परमार की एक कविता

दिन की मर्यादा रात ही तो है